Powered by Blogger.
SSLC EXAMINATION MARCH 2017 NOTIFICATION PUBLISHED.SSLC EXAM MARCH 2017 || THSLC || SSLC (HI) ||THSLC (HI) ||

May 8, 2010

हरिशंकर परसाई

श्री हरिशंकर परसाई जी मुख्यतः व्यंग -लेखक है,पर उनका व्यंगकेवल मनोरंजन के लिए नही है उन्होंने अपने व्यंग के द्वारा बार-बारपाठको का ध्यान व्यक्ति और समाज की उन कमजोरियों औरविसंगतियो की ओर कृष्ट किया है जो हमारे जीवन को दूभर बनारही हैउन्होंने सामाजिक और राजनीतिक जीवन में व्याप्त भ्रष्टाचारएवं शोषण पर करारा व्यंग किया है जो हिन्दी व्यंग -साहित्य मेंअनूठा है। परसाई जी मूलतः एक व्यंगकार हैसामाजिकविसंगतियो के प्रति गहरा सरोकार रखने वाला ही लेखक सच्चाव्यंगकार हो सकता हैपरसाई जी सामायिक समय का रचनात्मकउपयोग करते हैउनका समूचा साहित्य वर्तमान से मुठभेड़ करता हुआ दिखाई देता हैपरसाई जीहिन्दी साहित्य में व्यंग विधा को एक नई पहचान दी और उसे एक अलग रूप प्रदान किया ,इसकेलिए हिन्दी साहित्य उनका हमेशा ऋणी रहेगा

No comments:

School Kalolsavam Software and help file .

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom